एक्सरसाइज करने के लिए अच्छी नींद भी है ज़रूरी, नहीं तो हो सकती है समस्या – benefits of better sleep for exercise in hindi – News18 हिंदी


हाइलाइट्स

एक्सरसाइज करने से अच्छी नींद आती है और हेल्दी रहने में मदद मिलती है.
सही फिटनेस लेवल और एक्सरसाइज करने के लिए भी अच्छी नींद जरूरी है.

Exercise and Better Sleep: एक्सरसाइज के कितने लाभ हैं, यह तो आप जानते ही होंगे. हमारी शारीरिक और मानसिक सेहत के लिए एक्सरसाइज करना बेहद ज़रूरी है. ऐसे ही, पर्याप्त नींद लेना भी हमारे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है. हॉपकिंसमेडिसिन (Hopkinsmedicine) की मानें तो एक्सरसाइज करने से न केवल आपको जल्दी नींद आती है, बल्कि इससे स्लीप क्वालिटी में भी सुधार आता है. लेकिन, क्या आप एक्सरसाइज करने के लिएअच्छी नींद के फायदों के बारे में जानते हैं? आइये जानते हैं की एक्सरसाइज और फिटनेस के लिए अच्छी नींद क्यों फायदेमंद है.

एक्सरसाइज करने के लिए अच्छी नींद के फायदे
फिट और हेल्दी रहने के लिए क्या केवल एक्सरसाइज करना ही जरूरी है? नहीं, सही एक्सरसाइज के साथ ही सही आहार, पर्याप्त नींद और ऐसे अन्य कई फैक्टर्स हैं, जो हमारे संपूर्ण स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. हॉपकिंसमेडिसिन के रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार, फिटनेस और एक्सरसाइज करने के लिए अच्छी नींद के फायदे इस प्रकार हैं:

मसल रिजर्नेशन: जब हम सोते हैं तो ह्यूमन ग्रोथ हॉर्मोन्स रिलीज होते हैं, जबकि पुअर स्लीप क्वालिटी का ह्यूमन ग्रोथ हॉर्मोन लेवल्स पर बुरा प्रभाव पड़ता है, इसलिए अच्छी गुणवत्ता वाली और लम्बी नींद में हमारा शरीर सबसे अच्छी तरह से रिपेयर होता है और ग्रो करता है, जिससे फिटनेस लेवल सही रहने में मदद मिलती है.

ये भी पढ़ें: होठों पर दिख रहे हैं पीले रंग के धब्बे तो दूर करने के लिए अपनाएं ये 3 घरेलू उपचार

फैट बर्न होता है: ऐसा माना जाता है कि जब हम अधिक जागते और कम सोते हैं, तो हम ज्यादा कैलोरीज को बर्न करते हैं. जबकि, सबसे अधिक फैट बर्निंग तब होती है, जब हम सोते हैं. ऐसा भी माना गया है कि जो लोग कम सोते हैं और इंसुलिन के प्रति पुअर रेजिस्टेंस होते हैं और अगर आप इंसुलिन को कंट्रोल नहीं कर पाते हैं, तो आपको फैट लूज करने में समस्या हो सकती है. आप अच्छी नींद लेकर फैट बर्न कर सकते हैं.

ब्रेन को रिचार्ज करे: एडिनोसिन (Adenosine) एक न्यूरोट्रांसमीटर है, जो एडिनोसिन ट्राइफॉस्फेट (Adenosine triphosphate) को प्रोड्यूस करता है. यह वो एनर्जी स्टोरेज मॉलिक्यूल है, जो सेल्स के अंदर ATP (Adenosine Triphosphate) अधिकतर बायोकेमिकल रिएक्शन के लिए जिम्मेदार है. जब हम जागते हैं तो दिमाग में एडेनोसाइन का स्तर बढ़ जाता है, जो अलर्टनेस को कम करता हे और यह बताता है कि मस्तिष्क थका हुआ है. जब हम सोते हैं तो ये स्तर कम हो जाता है.

हमारे दिमाग के रेस्ट करने का साफतौर पर फिटनेस पर प्रभाव पड़ता है. जब हम अधिक अलर्ट होते हैं तो हमारा मोटिवेशन लेवल भी बढ़ जाता है, इसलिए अधिक रेस्ट करने से आप अधिक अलर्ट होंगे और एक्सरसाइज के लिए अधिक मोटिवेट भी होंगे.

ये भी पढ़ें:सर्दियों में इस तरह करें लौकी के जूस का सेवन, वजन के साथ कोलेस्ट्रॉल लेवल भी होगा कम, होगें ये 9 फायदे

जितना आप वर्कआउट यानि एक्सरसाइज को प्राथमिकता देते हैं, उतना ही ध्यान अपनी नींद पर भी दें. अगर आपकी नींद की गुणवत्ता बढ़ेगी तो आप अपनी फिटनेस और एक्सरसाइज कैपेसिटी में भी बढ़ोतरी का अनुभव करेंगे.

Tags: Better sleep, Health, Healthy Diet, Lifestyle



Source link