ओडिशा: दीक्षांत समारोह में बोले मुख्य न्यायाधीश- विधि स्नातक अपना समय कानूनी सहायता के काम में लगाएं

ओडिशा: दीक्षांत समारोह में बोले मुख्य न्यायाधीश- विधि स्नातक अपना समय कानूनी सहायता के काम में लगाएं


इनपुट- भाषा 

कटक. भारत के मुख्य न्यायाधीश उदय उमेश ललित ने विधि स्नातकों से शनिवार को आग्रह किया कि वे कानूनी सहायता के काम के प्रति अपना समय और ऊर्जा समर्पित करें. दरअसल प्रधान न्यायाधीश ने ओडिशा में स्थित राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय के नौवें दीक्षांत समारोह में अपने संबोधन के दौरान विधि स्नातकों से पेशे के प्रति पूर्ण जुनून रखने और नागरिकों के प्रति करुणा दिखाने का आह्वान किया.

प्रधान न्यायाधीश उदय उमेश ललित ने कहा कि एक साल से अधिक समय तक राष्ट्रीय कानूनी सेवा प्राधिकरण के साथ अपने जुड़ाव के दौरान उन्होंने देखा कि देश में कानूनी सहायता के काम को कई बार उपेक्षा का सामना करना पड़ा. चीफ जस्टिस उदय उमेश ललित ने युवा स्नातकों से कानूनी सहायता कार्य के लिए अपना समय और ऊर्जा समर्पित करने का आग्रह किया. उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि इसके बाद, समाज हर मोड़ पर आपके योगदान को लेकर उत्सुक रहेगा.

उन्होंने कहा कि जब नागरिक अधिकारों को अक्षुण्ण रखने की बात आती है, तो कानून का पेशा अग्रणी भूमिका निभाता रहा है. इस मौके पर कुल 221 स्नातकों को डिग्री प्रदान की गई. बता दें, राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह के दौरान मुख्य न्यायाधीश को सुनने के लिए विधि स्नातकों के बीच काफी उत्साह नजर आया. लॉ की पढ़ाई पूरी कर चुके छात्रों ने बड़े ही ध्यान से चीफ जस्टिस की बातें सुनी.

Tags: Chief Justice of India, Cuttack, Odisha news



Source link