ओरल हेल्‍थ के लिए कितना टूथपेस्‍ट यूज करना जरूरी? यहां जानें सबसे जरूरी बात – how much toothpaste to use is necessary for oral health know here – News18 हिंदी


हाइलाइट्स

दांतों की सफाई के लिए टूथपेस्‍ट की सही मात्रा का यूज करना चाहिए.
ओरल हाइजीन के लिए माउथवॉश का प्रयोग करना भी फायदेमंद है.

How Much Toothpaste Should Use For Oral Health: बच्‍चे हों या बड़े सभी इस बात को लेकर कंफ्यूज रहते हैं कि दातों की बेहतर सफाई के लिए टूथपेस्‍ट की कितनी मात्रा उपयोग करनी चाहिए. कई लोगों को लगता है कि अधिक टूथपेस्‍ट का प्रयोग करने से दांतों की अच्‍छी सफाई हो सकती है लेकिन ऐसा नहीं है. टूथपेस्‍ट का अधिक प्रयोग दांत के अलावा ओरल हेल्‍थ पर भी बुरा प्रभाव डाल सकता है. एक्‍सपर्ट की मानें तो टूथपेस्‍ट का प्रयोग केवल मुंह में झाग बनाने के लिए किया जाना चाहिए न कि स्‍वाद के लिए. टूथपेस्‍ट का प्रयोग बच्‍चे और बड़े दोनों के लिए एक समान ही होता है लेकिन बच्‍चों के दांत नाजुक और कमजोर होते हैं इसलिए वे जल्‍दी खराब हो सकते हैं. चलिए जानते हैं दांत को साफ करने के लिए कितनी मात्रा में टूथपेस्‍ट की आवश्‍यकता होती है.

कितना टूथपेस्‍ट है जरूरी?
दांतों की बेहतर और डीप सफाई के लिए अच्‍छे टूथपेस्‍ट का प्रयोग करना फायदेमंद हो सकता है. हेल्‍थ डॉट कॉम के अनुसार टीवी या विज्ञापन में दिखने वाले टूथपेस्‍ट की क्वांटिटी केवल लोगों को विज्ञापन के बारे में जानकारी देने के लिए होती है. सामान्‍यतौर पर इतना टूथपेस्‍ट यूज करने से ओरल प्रॉब्‍लम्‍स बढ़ सकती हैं. एक व्‍यक्ति को एक बार में केवल मटर के दाने के बराबर टूथपेस्‍ट का प्रयोग करना चाहिए और ये हिदायत टूथपेस्‍ट की पैकेजिंग पर भी लिखी होती है. जिसपर किसी का ध्‍यान ही नहीं जाता.

बच्‍चों के लिए हो सकता है नुकसानदायक
टूथपेस्‍ट की अधिक मात्रा का प्रयोग करने से सबसे ज्‍यादा नुकसान बच्‍चों को होता है. अधिक मात्रा का प्रयोग करने से बच्‍चों के मिल्‍क टीथ यानी दूध के दांत खराब हो सकता हैं. ऐसा इसलिए क्‍योंकि, जब फ्लोराइड अधिक मात्रा में लिया जाता है तो डेवलपिंग टीथ पर फ्लोरोसिस नामक कॉस्‍मेटि‍क स्थिति पैदा कर सकता है. कॉस्‍मेटिक प्रॉब्‍लम होने से दांत पर पीले और भूरे रंग के धब्‍बे हो सकते हैं साथ ही कई बार दांतों में गड्ढे भी हो सकते हैं. इसलिए बड़े हों या बच्‍चे सभी को मटर के दाने के बराबर टूथपेस्‍ट की मात्रा का प्रयोग करना चाहिए.

ये भी पढ़ें: सर्दियों में अदरक वाली चाय पीने के फायदे जानें, मिलेगा हेल्थ का डबल डोज

कम टूथपेस्‍ट के प्रयोग से भी हो सकती है परेशानी
बहुत कम मात्रा में टूथपेस्‍ट का उपयोग करने से भी समस्‍या हो सकती है. कम टूथपेस्‍ट झाग या बुलबुले बनाने में असमर्थ हो सकता है जिस वजह से दांत सही ढंग से साफ नहीं हो पाएंगे. इसके अलावा दांतों की सुरक्षा के लिए पर्याप्‍त मात्रा में फ्लोराइड भी नहीं मिल सकेगा. दांतों को साफ करते वक्‍त मुंह में पानी का प्रयोग न करें क्‍योंकि फ्लोराइड दातों पर कार्य करने में समय लेता है. मुंह में पानी या ब्रश अधिक गीला होने पर वो काम नहीं कर सकेगा.

ये भी पढ़ें: कितना घातक है ब्लड शुगर का 400 के पार जाना? डॉक्टर से जानें

माउथवॉश का करें प्रयोग
ओरल हाइजीन के लिए ब्रश के अलावा माउथवॉश का उपयोग किया जा सकता है. इससे फ्लोराइड की मात्रा को बढ़ाने में मदद मिल सकती है. साथ ही दांत और मुंह दोनों किटाणुमुक्‍त रहेंगे. दांतों की सफाई के लिए टूथपेस्‍ट की सही मात्रा का उपयोग करना जरूरी है. दांतों और ओरल हाइजीन के लिए चिकित्‍सक से संपर्क कर सकते हैं.

Tags: Health, Lifestyle



Source link