किडनी डिजीज होने पर इन चीजों को डाइट में करें शामिल – what should be the diet for kidney disease know which things should be included in the diet – News18 हिंदी


हाइलाइट्स

क्रोनिक किडनी डिजीज होने पर अधिक सोडियम लेने से बचें.
किडनी डिजीज के दौरान लिक्विड डाइट न लें.
डाइट के साथ लाइफस्टाइल में भी बदलाव किए जा सकते हैं.

Diet In Chronic Kidney Disease – शरीर को स्‍वस्‍थ बनाएं रखने में किडनी अहम भूमिका निभाती है. ये ब्लड को प्यूरीफाई करने के साथ शरीर को डिटॉक्स करती है. किडनी की कार्य प्रक्रिया में किसी भी तरह की परेशानी आने पर किडनी डिजीज होने का खतरा अधिक बढ़ जाता है. जब किडनी पूरी तरह से काम करना बंद कर देती है तो क्रोनिक किडनी डिजीज की स्थिति का सामना करना पड़ सकता है. कई बार इस स्थिति में डायलिसि‍स और किडनी ट्रांसप्लांट की आवश्यकता भी पड़ जाती है. ऐसे में प्रॉपर ट्रीटमेंट के साथ पेशेंट को डाइट पर भी विशेष ध्यान देना होगा. किडनी डिजीज के पेशेंट को उसकी आवश्यकता और स्टेज के अनुरूप डाइट चार्ट फॉलो करना चाहिए. ताकि किडनी फंक्शन को दोबारा से कार्य करने की क्षमता मिल सके. चलिए जानते हैं कैसी होनी चाहिए क्रोनिक किडनी डिजीज में पेशेंट की डाइट.

ये भी पढ़ें: Diabetes के मरीज दोपहर या शाम को करें वर्कआउट, Blood Sugar चुटकियों में होगा कंट्रोल

कैसी होनी चाहिए डाइट
क्रोनिक किडनी डिजीज डाइग्नोज होने के साथ ही ये सुनिश्चित करने का प्रयास करना चाहिए कि आपकी डाइट किडनी और पूरे शरीर पर कम से कम तनाव डाले. वैरी वेल हेल्थ के अनुसार किडनी के पेशेंट को डिजीज की स्टेज के अनुसार डाइट फॉलो करनी चाहिए. डाइट में प्रोटीन, सोडियम, पोटेशियम और फास्फोरस की मात्रा को नियंत्रित करना जरूरी है.

लो-सोडियम डैश डाइट
क्रोनिक किडनी डिजीज की शुरुआती स्टेज में कई एक्सपर्ट्स डैश डाइट की सिफारिश करते हैं. जिसमें सब्जियों, फलों और कम फैट वाले डेयरी प्रोडक्ट शामिल हैं. इसके अलावा अनाज, मछली व नट्स का मीडियम सेवन कर सकते हैं.

प्रोटीन सोर्स बढ़ाएं
लीन मांसपेशियों को बनाए रखने और इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए डेली 8-10 औंस के बीच प्रोटीन का सेवन किया जा सकता है. इसमें लीन मीट, पोल्ट्री , मछली, अंडे और कम फैट वाले डेयरी प्रोडक्ट पर फोकस करना चाहिए.

नमक का कम प्रयोग
ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए नमक का डेली 2,000 मिलीग्राम से अधिक सेवन न करें. याद रखें लो सोडियम का मतलब ये नहीं कि नमक का बिल्‍कुल सेवन न करें बल्कि कम मात्रा में करें.

कार्ब्स का सेवन बढ़ाएं
कार्ब्स की मात्रा जरूरत के अनुसार बढ़ाएं. यदि वजन बढ़ाने की आवश्‍यकता है तो डेली कार्ब्‍स की मात्रा में 6-11 सर्विंग तक बढ़ा सकते हैं. कार्ब्‍स के लिए डाइट में अनाज, आटा और ब्रेड की मात्रा बढ़ा सकते हैं.

ये भी पढ़ें: सर्दियों में साइनस आपके डेली रूटीन को बिगाड़ सकती है, राहत पाने के लिए करे ये 5 योगासन

लिक्विड डाइट सीमित करें
पल्मोनिरी एडिमा से बचने के लिए लिक्विड डाइट को सीमित करें. प्यास को कम करने के लिए अधिक नमक वाले पदार्थ के सेवन से बचें. फ्रूट जूस की बजाए फ्रूट का अधिक सेवन करें.
क्रोनिक किडनी डिजीज की समस्या होने पर डाइट और लाइफस्‍टाइल में बदलाव किए जा सकते हैं. किडनी डिजीज के शुरुआती लक्षण दिखने पर चिकित्सक से संपर्क करें.

Tags: Health, Healthy Diet, Lifestyle



Source link