टी20 वर्ल्‍डकप से पहले टीम इंडिया के सामने होगी आस्‍ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका पर विजय की चुनौती! – t20 world cup team india australia south africa bcci sourav ganguly jay shah rohit bumrah harshal patel cricket suno dil se nodakm


ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के विरुद्ध इन मैचों में चोट से उबरने के बाद जसप्रीत बुमराह की वापसी हुई है, साथ ही हर्षल पटेल को जगह मिली है. बुमराह के नहीं होने से भारत के प्रदर्शन पर एशिया कप में काफी प्रभाव पड़ा था. वैसे क्रिकेट जैसे खेल में निश्चित होकर यह नहीं कहा जा सकता कि अगर यूएई में बुमराह होते तो भारत का प्रदर्शन बेहतर होता. अगर ऐसा है भी तो किसी एक खिलाड़ी पर इस कदर निर्भरता कोई बेहतर संकेत नहीं है.

आयरलैंड और इंग्लैंड की दो सीरीज छोड़ भारत ने पिछली पांच सीरीज घर में ही खेली है और इन सभी पर कब्‍जा भी किया है. हालांकि दक्षिण अफ्रीका, से 2-2 की बराबरी रही, फिर भी भारत को उसके घर में हरा पाना किसी के लिए भी मुश्किल है, ऐसे में विश्व कप से पहले भारत के नाम दो और सीरीज जा सकती हैं. लेकिन सवाल यही है कि विश्व कप ऑस्ट्रेलिया में है, जहां के हालात बिल्कुल भिन्न हैं.

उधर, आस्ट्रेलिया ने अपना आखिरी टी-20 दौरा तीन-चार महीने पहले श्रीलंका में किया था, जिसे उसने 2-1 से जीता. फिलहाल आस्ट्रेलिया अपने देश में न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज एकतरफा अंदाज में जीतकर भारत आ रहा है. इस लिहाज से कंगारू फॉर्म में हैं तो भारत को इसकी तलाश है.

भारत पिछली सात सीरीज से अजेय है. इस बार दिलचस्पी इस बात में भी होगी कि विराट कोहली एशिया कप वाले फॉर्म को इस सीरीज में भी कायम रख पाएंगे या नहीं. टी-20 वर्ल्ड कप में टीम के लिए उनका लय में बने रहना जरूरी है.

कप्तान रोहित शर्मा के लिए भी यह सीरीज लिटमस टेस्ट है. कप्तान तो वह आगे भी बने रहेंगे, पर सवाल है कि अपने नेतृत्व को वह किस तरह और कितना असरदार बना पाते हैं. एशिया कप में अपने फॉर्म को लेकर वह खुद तो परेशान थे ही,-गेंदबाजों के इस्तेमाल और फील्ड प्लेसिंग को लेकर भी आलोचना के दायरे में हैं.

भारत और आस्ट्रेलिया के बीच खेले गये कुल 23 टी-20 मैचों में भारत ने 13 में जीत दर्ज की है, जबकि आस्ट्रेलिया ने 9 जीते हैं. जून के बाद आस्ट्रेलिया के लिए यह पहली टी-20 सीरीज होगी. आखिरी बार दोनों देशों के बीच 2020 में टी-20 सीरीज भारत में ही खेली गई थी, जिसे भारत ने 2-1 से जीता था.
भारतीय बल्लेबाजी का दारोमदार फिर रोहित, लोकेश राहुल , विराट, सूर्यकुमार, दीपक हुड्डा, दिनेश कार्तिक और ऋषभ पंत पर होगा. हार्दिक पंड्या और अश्विन की बल्लेबाजी बोनस की तरह होगी.

दूसरी ओर गेंदबाजी में एशिया कप की टीम से इस बार काफी बदलाव देखने को मिलेगा. बुमराह के अलावा अक्षर पटेल, हर्षल पटेल, दीपक चाहर और मोहम्मद शमी भी आस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों की परीक्षा लेंगे. मोहम्मद शमी विश्व कप की टीम में रिजर्व के तौर पर शामिल हैं, लेकिन इस सीरीज में उनको मौका मिला है. सेलेक्टर्स ने अर्शदीप सिंह को आराम दिया है, हालांकि वह विश्व कप में खेलने जाएंगे. अर्शदीप दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अगली सीरीज में भी खेलेंगे.

उधर, आस्ट्रेलियाई टीम भारत में सीरीज खेलने के तुरत बाद स्वेदश लौट जाएगी और टी-20 वर्ल्ड कप से पहले वेस्टइंडीज और इंग्लैंड के खिलाफ भी टी-20 मैचों की सीरीज खेलेगी. डेविड वार्नर भारत नहीं आ रहे हैं वह आराम कर अगले महीने टीम के साथ जुड़ेंगे. फिर भी आस्ट्रेलियाई टीम के पास कप्तान आरोन फिंच, ग्लैन मैक्सवेल, स्टीव स्मिथ, मैथ्यू वेड जैसे बल्लेबाज हैं. स्टीव स्मिथ इस समय जबर्दस्त फॉर्म में हैं. उन्होंने न्यूजीलैंड के खिलाफ पिछले सप्ताह वनडे सीरीज में शतक और अर्धशतक जमाकर भारत को सचेत रहने के लिए कह दिया है. वैसे भी वह भारत के खिलाफ हमेंशा ही खतरनाक रहे हैं.

इस बीच आस्ट्रेलिया के तीन अन्य खिलाड़ी-मिशेल स्टार्क, मिशेल मार्श और मारकस स्टोइनिश को भारत दौरे पर आने वाली टीम से दो दिन पहले चोट के कारण दौरे से हटना पड़ा है. उनकी जगह नाथन एलिस, डेनियस सैम्स और सीन एबोट को टीम में शामिल किया गया है. एशिया कप में बीसीसीआई ने भारत के खराब प्रदर्शन को लेकर जो समीक्षा की है, उससे मुताबिक मध्य के ओवरों में भारतीय बैटिंग चिंता का विषय है. इसमें माना गया है कि सात से 15 ओवर के बीच कम रन बने और विकेट ज्यादा गिरे. इसलिए आस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज पर इन बातों पर ध्यान दिए जाने की जरूरत है.

इस बीच, सुप्रीम कोर्ट में बीसीसीआई की ओर से संविधान संशोधन के लिए जो याचिका दायर की गई थी, उसे कोर्ट ने मान लिया है. इसका मतलब है कि अब बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली और सचिव जय शाह अपने पद पर आगे भी बने रह सकते हैं.

इस साल इंग्लैंड में काउंटी खेलने वाले भारतीय खिलाड़ियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. हरियाणा के आफ स्पिनर जयंत यादव भी वारविकशायर के लिए खेल रहे हैं. इस तरह अब तक आठ भारतीय खिलाड़ी काउंटी टीमों की सेवा दे चुके हैं. वारविकशायर के लिए जयंत के अलावा मोहम्मद सिराज भी खेल रहे हैं, जिन्होंने अपने पदार्पण मैच में समरसेट के खिलाफ पहली पारी में पांच और दूसरी पारी में एक विकेट लिया.

इसके अलावा पहले मैच में शतक से वंचित रहने वाले शुभमन गिल अपने दूसरे मैच में मिडिलसेक्स के खिलाफ निराश कर गये. ग्लेमोरगन की ओर से खेलते हुए उन्होंने 22 और 11 रन का योगदान किया. लॉर्ड्स में यह मैच गिल की टीम 10 विकेट से हार गई.

इंग्लैंड में भारतीय महिला टीम ने कल ही तीन मैचों की टी-20 सीरीज खत्म की है. अब यह टीम तीन वनडे मैचों की सीरीज 18 सितम्बर से शुरू करेगी. पहले मैच में इंग्लैंड ने भारत को नौ विकेट से हराया तो दूसरे में भारत ने इंग्लैंड को आठ विकेट से शिकस्त दी. पहले मैच में साराह ग्लैन ने चार विकेट लेकर और सोफिया डंकले ने अर्धशतक जमाकर मेंजबान टीम को बढ़त दिला दी थी. लेकिन दूसरे मैच में पासा पलट गया. भारत की ओर से स्नेह राणा ने तीन विकेट लेकर इंग्लैंड की कमर तोड़ दी. स्मृति मंधाना के नाबाद 79 रन की बदौलत भारत ने 143 रन का लक्ष्य आसानी से हासिल कर लिया. लेकिन कल ब्रिस्टल में तीसरे और निर्णायक मुकाबले में इंग्लैंड ने सात विकेट से जीत दर्ज कर सीरीज अपने नाम कर ली.

और अंत में, भारत में हो रहे घरेलू क्रिकेट पर एक नजर. न्यूजीलैंड ए और भारत ए टीमों के बीच तीन अनऑफिसियल टेस्ट मैचों की सीरीज के अंतिम मुकाबले का आज दूसरा दिन है. कल पहले दिन बेंगलुरु में भारत ए की टीम पहली पारी में 293 रन पर सिमट गई. रुतुराज गायकवाड ने 108 रन और विकेटकीपर उपेन्द्र यादव ने 76 रन की पारी खेली. न्यूजीलैंड ए के मैथ्यू फिशर ने चार विकेट हासिल किये. इससे पहले सीरीज के दोनों मैच ड्रॉ पर समाप्त हुए थे.

उधर, दलीप ट्रॉफी के दोनों क्वार्टर फाइनल मैच पूरे होने के बाद अब सेमीफाइनल कोयम्बटूर और सेलम में खेले जा रहे हैं. आज इन मैचों का दूसरा दिन है. कल पहले दिन कोयम्बटूर में सेन्ट्रल जोन के खिलाफ वेस्ट जोन ने नौ विकेट पर 252 रन बनाये थे. वेस्ट जोन के पृथ्वी शॉ 60 रन पर आउट हुए जबकि राहुल त्रिपाठी 64 रन पर नाबाद थे.

सेलम में चल रहे एक अन्य मैच के पहले दिन साउथ जोन ने नॉर्थ जोन के खिलाफ दो विकेट पर 324 रन का स्कोर खड़ा किया. इसमें रोहन कुन्नूम्मल ने 143 और कप्तान हनुमा विहारी ने नाबाद 107 रन की शतकीय पारी खेली. मयंक अग्रवाल 49 रन पर आउट हुए. यह था, सप्ताह भर की क्रिकेट गतिविधियों पर आधारित पॉडकास्ट-सुनो दिल से. संजय बैनर्जी को अनुमति दीजिए नमस्कार.



Source link