बुखार, सर्दी और खांसी हो सकते हैं स्वाइन फ्लू के लक्षण ! कहीं आप तो चपेट में नहीं आ रहे?


हाइलाइट्स

H1N1 फ्लू के लक्षण मौसमी फ्लू के जैसे ही होते हैं.
वायरस के संपर्क में आने के 1-3 दिन में लक्षण दिखते हैं.

Swine Flu Symptoms And Prevention: पिछले कुछ दिनों में स्वाइन फ्लू के केस तेजी से बढ़े हैं. अकेले छत्तीसगढ़ में ही स्वाइन फ्लू के 200 से अधिक मरीज सामने आ चुके हैं. यह हाल देश के कई शहरों में देखने को मिल रहा है. ऐसे में जरूरी है कि हम स्‍वाइन फ्लू के लक्षण को पहचाने और अपने परिवार के बचाव के लिए अधिक से अधिक सतर्क र‍हें. मायोक्‍लीनिक के मुताबिक, H1N1 फ्लू, जिसे आमतौर पर स्वाइन फ्लू के रूप में जाना जाता है, मुख्य रूप से फ्लू (इन्फ्लूएंजा) वायरस के H1N1 स्ट्रेन के कारण होता है. H1N1 एक प्रकार का इन्फ्लूएंजा ए वायरस है और H1N1 कई फ्लू वायरस स्‍ट्रेन में से एक है जो मौसमी फ्लू का कारण बन सकता है. H1N1 फ्लू के लक्षण मौसमी फ्लू के समान ही होते हैं. वायरस के संपर्क में आने के लगभग एक से तीन दिन बाद फ्लू के लक्षण विकसित होना शुरू करते  हैं.

स्‍वाइन फ्लू के लक्षण
कभी कभी बुखार आना
ठंड लगना
खांसी होना
गला खराब होना
बहती या भरी हुई नाक
आंखों में पानी आना और लाल रहना
शरीर में दर्द रहना
सिर दर्द रहना
थकान महसूस होना
दस्त की समस्‍या
मतली और उल्टी आना

यह भी पढ़ेंः मसूड़ों से खून आना ब्लड शुगर बढ़ने का संकेत, जानें इससे होने वाली डेंटल प्रॉब्लम्स

वयस्कों के लिए आपातकालीन लक्षण
सांस लेने में कठिनाई या सांस की तकलीफ होना
छाती में दर्द महसूस होना
लगातार चक्कर आना
बहुत अधिक कमजोरी या मांसपेशियों में दर्द होना.
तबियत तेजी से खराब होना.

इसे भी पढ़ें : आंखों में ‘कॉन्टैक्ट लेंस’ का करते हैं इस्तेमाल, तो भूलकर भी न करें ये गलतियां

बच्चों के लिए आपातकालीन लक्षण
सांस लेने में दिक्क्त होना
होंठ का नीला होना
छाती में दर्द होना
डीहाइड्रेशन होना
मांसपेशियों में ज्‍यादा दर्द होना
तबियत तेजी से खराब होना.

इस तरह स्‍वाइन फ्लू से करें बचाव
अपने हाथों को अच्छी तरह से और बार-बार साबुन से धोएं. हैंड सैनिटाइज़र का उपयोग करें.
खांसी और छींक को अपनी कोहनी से ढ़क कर करें और फिर हाथ धो लें.
चेहरे को छूने से बचें. अपनी आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें.
सर्फेस की सफाई करते रहें.
संक्रमित लोगों के संपर्क से बचें.
भीड़भाड़ से दूर रहें.
5 वर्ष से कम या 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को भीड़ से बचाएं.
गर्भवती या अस्थमा हो तो स्वाइन बार्न से बचें.

Tags: Health, Lifestyle, Swine flu



Source link