वेट लॉस से लेकर फर्टिलिटी तक के लिए फायदेमंद हैं कद्दू के बीज, जानिए इसके इस्तेमाल के तरीके


हाइलाइट्स

कद्दू के बीज में प्रचूर मात्रा में पोलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड होता है
कद्दू के बीज में मौजूद फाइबर के कारण भूख कम लगती है
इससे डाइजेशन बहुत अच्छा रहता है

pumpkin seeds: हम लोगों के घरों में आमतौर पर कद्दू के बीज को फेंक दिया जाता है. लेकिन कद्दू के बीज में इतने सारे गुण होते हैं कि ये कई बीमारियों से हमें दूर रख सकते हैं. कद्दू के बीज में प्रचूर मात्रा में पोलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड होता है यानी यह शरीर में गुड कोलेस्ट्रोल की मात्रा को बढ़ाता है. इसके अलावा इसमें कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जैसे कि सेलेनियम और बीटा कीरोटीन. कद्दू के बीज आयरन का भी बहुत बड़ा स्रोत है. एक कप कद्दू के बीज में 9.52 मिलीग्राम आयरन पाया जाता है. एक वयस्क महिला में 18 मिलीग्राम और पुरुष में 8 मिलीग्राम आयरन की राजना आवश्यकता होती है. मेडिकल न्यूज टूडे के मुताबिक कद्दू के बीज में पर्याप्त मात्रा में जिंक, फॉस्फोरस, मैग्नीज, प्रोटीन और फाइबर पाया जाता है.

इसे भी पढ़ें  मेथी के साग में चमात्मकारिक गुण, डायिबटीज को फटकने भी नहीं देगा और कोलेस्ट्रॉल भी कम करेगा कंट्रोल-रिसर्च

कद्दू के बीज के फायदे

  • वेट लॉस में रामबाण-एक ओंस कद्दू के बीज में 1.8 ग्राम फाइबर मौजूद होता है. फाइबर पेट के लिए बहुत उपयोगी कंपाउंड है. इससे डाइजेशन बहुत अच्छा रहता है जिसके कारण जल्दी-जल्दी भूख नहीं लगती है. यही कारण है कद्दू के बीज वेट लॉस के लक्ष्य को हासिल करने में बहुत मददगार है.
  • फर्टिलिटी और यूरेनरी हेल्थ-पारंपरिक रूप से कद्दू के बीजों का इस्तेमाल कामोत्तेजक के रूप में किया जाता है. हालांकि इसकी जानकारी बहुत कम लोगों को है. कद्दू के बीज जिंक से भी भरपूर होते हैं, जो पुरुष प्रजनन क्षमता को लाभ पहुंचा सकते हैं. 2018 के एक अध्ययन के अनुसार, यह शुक्राणु की गुणवत्ता और मात्रा दोनों में सुधार कर सकते हैं. 2019 के एक अध्ययन में पाया गया कि कद्दू के बीज का अर्क प्रोस्टेटिक हाइपरप्लासिया वाले मरीजों के लिए उपयोगी है. यह ऐसी बीमारी है जो प्रोस्टेट को बढ़ा देती है और जिससे पेशाब करने में परेशानी पैदा होती है.
  • नींद के लिए फायदेमंद-कद्दू के बीज अमीनो एसिड ट्रिप्टोफैन से भरपूर होते हैं. अगर बहुत दिनों से नींद नहीं आने की बीमारी से परेशान हैं तो कद्दू के बीज का सोने से कुछ समय पहले सेवन करें. गुणवत्तापूर्ण नींद आएगी. कद्दू के बीज में ट्रिप्टोफैन रसायन होता है जिसे शरीर सेरोटोनिन में बदल देता है. सेरोटोनिन फील गुड हार्मोन है जो शरीर को बेहतर महसूस कराता है. इसके कारण मेलाटोनिन हार्मोन रिलीज होता है जो स्लीप हार्मोन है. इससे अच्छी नींद आती है. शोध के अनुसार, सोने से पहले 1 ग्राम या इससे अधिक ट्रिप्टोफैन का सेवन करने से नींद की गुणवत्ता में सुधार हो सकता है.

कद्दू के बीज का इस्तेमाल कैसे करें-कद्दू के बीज को रोस्ट कर इस्तेमाल कर सकते हैं. इसे सलाद में भी ले सकते हैं. इसके अलावा इसे ड्राई फ्रूट में मिक्चर बना के खा सकते हैं.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source link