सेकेंड हार्ट अटैक का जोखिम कम करती है फिजिकल एक्टिविटी, जानें क्या कहती है स्टडी – physical activity may reduce risk for a second heart attack says study – News18 हिंदी


हाइलाइट्स

नियमित रूप से व्यायाम करने से दिल की बीमारियों का जोखिम करीब 34 प्रतिशत कम हो जाता है.
शोधकर्ताओं ने अपनी स्टडी में 1,115 वयस्कों के डेटा का परीक्षण किया.

How to Prevent Second Heart Attack: फिट और हेल्दी रहने के लिए सभी हेल्थ एक्सपर्ट नियमित रूप से एक्सरसाइज और योगा करने की सलाह देते हैं. एक्सपर्ट के मुताबिक हर किसी को डेली कुछ समय के लिए एक्सरसाइज के लिए निकालना चाहिए. एक नई रिसर्च के मुताबिक अगर आपको दिल का दौरा पड़ा है और इसके बाद आप नियमित रूप से व्यायाम करते हैं तो दूसरे स्ट्रोक का खतरा बहुत हद तक कम हो जाता है. एक्सपर्ट इस बात को मानते हैं कि रेगुलर एक्सरसाइज करने से हृदय रोग, स्ट्रोक और दिर के दौरे की संभावना कम हो जाती है.

ओनली माय हेल्थ के अनुसार वैज्ञानिक पिछले काफी समय से एक्सरसाइज और हृदय रोग को लेकर रिसर्च में जुटे हुए हैं. नई रिसर्च में यह पता लगाया कि पहले स्ट्रोक के बाद व्यायाम करने से दूसरे स्ट्रोक का जोखिम कम होता है या नहीं.

शोधकर्ताओं ने मिसिसिपी, उत्तरी कैरोलिना, मैरीलैंड और मिनेसोटा में 1,115 वयस्कों के डेटा का परीक्षण किया. इन सभी लोगों को 1990 के दशक के मध्य और 2018 के अंत के बीच दिल का दौरा पड़ा था. स्ट्रोक पड़ने के दौरान उनकी औसत उम्र 73 वर्ष थी.

ज्यादा नमक वाली चीजों का सेवन करने से बढ़ सकता है मानसिक तनाव, जानें क्या कहती है रिसर्च

शोधकर्ताओं ने अपनी रिसर्च में शोध में भाग लेने वालों एक प्रश्नावली का उपयोग किया. जिसमें खेल, उनकी छुट्टियों का समय और डेली रूटीन के कार्यों को शामिल किया गया था. प्रतिभागियों पर दो साल तक नजर रखी और उनकी गतिविधि का विश्लेषण किया गया. शोधकर्ताओं ने पाया कि जो लोग शारीरिक रूप से एक्टिव थे उनमें दिल का दौरा पड़ने का जोखिम करीब 34 प्रतिशत तक कम था.

शोधकर्ता, येजिन मोक ने कहा कि हमारा अध्ययन दिल का दौरा पड़ने से पहले मध्ययम आयु वर्ग वालों में एक्सरसाइज के मूल्य को दिखाता है. दिल की बीमारी से बचने के लिए एक्सरसाइज सबसे बेहतर विकल्प है. मोक ने कहा कि कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों और इसके जोखिम से बचने के लिए थोड़ी सी शारीरिक गतिविधि भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है.”

Tags: Health, Heart attack, Heart Disease



Source link