Pollution and Sugar Level: बढ़ते पॉल्यूशन के कारण बिगड़ सकता है शुगर लेवल, जानिए क्या कहती है रिसर्च – effect on sugar level due to increasing pollution in hindi – News18 हिंदी


हाइलाइट्स

पॉल्यूशन का मनुष्य और वातावरण पर गहरा प्रभाव पड़ता है.
रिसर्च यह बताती है कि पॉल्यूशन शुगर लेवल में समस्या का कारण बन सकता है.
पॉल्यूशन से टाइप 2 डायबिटीज के साथ ही सांस संबंधी रोग, स्किन प्रॉब्लम्स आदि भी हो सकती हैं.

Pollution and Sugar Level: पॉल्यूशन यानी हवा, पानी आदि को प्रदूषित करने की प्रक्रिया, जिसका मनुष्य और वातावरण पर गहरा प्रभाव पड़ता है. प्रदूषण आजकल सबसे गंभीर चिंता का विषय बनता जा रहा है. अगर बात की जाए ब्लड शुगर की, तो यह हमारे ब्लड में पाए जाने वाली मुख्य शुगर है. यह हमें उस फूड से मिलती है, जिसे हम खाते हैं और हमारे शरीर में एनर्जी का मुख्य स्त्रोत है. ब्लड शुगर लेवल के बिगड़ने यानी डायबिटीज मेटाबोलिक डिसऑर्डर्स का ग्रुप है. ब्लड शुगर लेवल के सही न होने से कई अन्य बीमारियां होने की संभावना भी बढ़ जाती है. ऐसा पाया गया है कि बढ़ते पॉल्यूशन के कारण शुगर लेवल बिगड़ सकता है. 

पॉल्यूशन के कारण बिगड़ सकता है शुगर लेवल
एनसीबीआई (NCBI) द्वारा की गयी स्टडीज के दौरान ऐसा पाया गया है कि एयर पॉल्यूशन का डायबिटीज पर बुरा प्रभाव पड़ता है. मौजूदा एपिडेमीओलॉजिकल एविडेंस के अनुसार, एयर पॉल्यूटेंट्स की कंसंट्रेशन और जितनी अधिक देर तक एयर पॉल्यूटेंट्स के एक्सपोजर में आप रहते हैं, इससे टाइप 2 डायबिटीज से संबंधित बायोमार्कर बढ़ते हैं. एयर पोल्यूटेंट मिक्सचर के केमिकल घटक टाइप 2 डायबिटीज को अलग-अलग डिग्री तक प्रभावित कर सकते हैं. अब जानते हैं कि पॉल्यूशन डायबिटीज का कारण कैसे बनता है?

पॉल्यूशन कैसे बन सकता है डायबिटीज का कारण?
मेडिकल न्यूज टुडे के अनुसार, प्रदूषण ब्लड शुगर में गड़बड़ी यानी डायबिटीज का कारण बन सकता है. हालांकि, प्रदूषण और डायबिटीज का संबंध अभी पूरी तरह से प्रूव नहीं हुआ है. लेकिन, वैज्ञानिक ऐसा मानते हैं कि जब कुछ पॉल्यूटेंट्स को हम सांस के माध्यम से शरीर में ले जाते हैं, तो यह ब्लड स्ट्रीम में एंटर कर जाते हैं और टिश्यूज व अंगों को प्रभावित करते हैं. इससे हमारे शरीर पर असर होता है, जिससे इंसुलिन सेंसिटिविटी और प्रोडक्शन में परेशानी आ सकती है. इस तरह से शुगर लेवल बिगड़ सकता है.

पॉल्यूशन का असर ब्लड शुगर लेवल पर ही नहीं पड़ता है, बल्कि इससे और भी कई समस्याएं हो सकती हैं, जैसे सांस संबंधी रोग, स्किन प्रॉब्लम्स, इम्यूनिटी कम होना आदि.

ये भी पढ़ें:सेकेंड हार्ट अटैक का जोखिम कम करती है फिजिकल एक्टिविटी, जानें क्या कहती है स्टडी
ये भी पढ़ें:गर्भावस्था में बैक्टीरियल इंफेक्शन से बचना है तो करें करेले का सेवन, जानें इसके हेल्थ बेनिफिट्स

Tags: Air pollution, Diabetes, Health, Lifestyle



Source link