Prostate Health: Prostate Health: प्रोस्टेट कैंसर से बचाव के लिए डेली रूटीन में बदलाव है बेहद जरूरी, जानें अहम बातें – daily routine and food to prevent prostate cancer – News18 हिंदी


हाइलाइट्स

भारत में प्रोटेस्ट कैंसर के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है
40 साल की उम्र के बाद प्रोटेस्ट ग्रंथि की नियमित जांच करवाना जरूरी है
खान पान की अच्छी आदतों को अपनाकर समय रहते इस कैंसर से बचना संभव है

Food to Prevent Prostate Cancer: प्रोटेस्ट कैंसर पुरुषों के प्रोटेस्ट ग्लैंड यानी ग्रंथि में होने वाला कैंसर है जो धीरे धीरे बढ़ता है लेकिन, इसकी जद बड़ी तेजी से दुनिया में फैल रही है. ये कैंसर के सभी प्रकारों में दूसरा सबसे जानलेवा प्रकार बन चुका है. प्रोटेस्ट कैंसर आमतौर पर 40-45 साल के बाद के पुरुषों में देखने को मिलता है लेकिन अब ये तेजी से युवाओं में भी पैर पसार रहा है. बीमारी के लक्षण नजरंदाज करने के चलते भारत में इस बीमारी का पता लगभग तीसरी स्टेज के बाद चलता है जिसके चलते इलाज कठिन हो जाता है.

हालांकि यह सबसे सटीक कहावत है कि इलाज से बचाव बेहतर है और इसीलिए अगर समय रहते अपनी लाइफस्टाइल में बदलाव और समय से संबंधित जांचें करवाई जाए तो इस बीमारी से दूर रहा जा सकता है. चलिए जानते हैं कि कैसे अपनी लाइफस्टाइल में बदलाव और खान पान की आदतों को बदल कर प्रोटेस्ट कैंसर से बचाव किया जा सकता है.

डेली रूटीन में करें ये बदलाव-
-नियमित तौर पर व्यायाम करें
-प्रोटेस्ट ग्रंथि को मजबूत करने वालों योग करें
-45 साल के बाद यूरोलॉजिस्ट से नियमित तौर पर जांच करवाएं
-कैफीन और शराब का सेवन बंद कर दें
-जमकर पानी पिए और फल सब्जियो का सेवन करें

खान पान में करें ये बदलाव –
हेल्थ लाइन के अनुसार अपने भोजन में जिंक का इनटेक बढ़ाएं, क्योंकि जिंक के सेवन से प्रोटेस्ट कैंसर  का खतरा कम होता है.
-फलों में स्ट्रॉबेरी, ब्लूबेरी, रास्पबेरी और विटामिन सी युक्त फल जैसे संतरे और अंगूर का सेवन करें
-रेड मीट और प्रोसेस्ड मीट की बजाय सब्जियों का इनटेक बढ़ाएं.
-डेली रूटीन में कम से कम एक ग्रीन टी का सेवन करें.
-ज्यादा प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों से सेवन से बचें क्योंकि इससे खराब केलोस्ट्रोल बढ़ता है.
-फिश का सेवन कर सकते हैं.
-भोजन में सोया और चना की मात्रा बढ़ा दें क्योंकि इनमें मौजूद आयसोफावोन्स नामक तत्व प्रोस्टेट को स्वस्थ बनाता है.
-कैल्शियम से भरपूर खाद्य पदार्थों के सेवन पर कंट्रोल करना चाहिए क्योंकि इससे प्रोटेस्ट ग्लैंड को नुकसान पहुंचता है.

ये भी पढ़ें: Uric Acid को नेचुरल तरीके से कंट्रोल करते हैं ये 5 फल, डाइट में आज ही करें शामिल
ये भी पढ़ें: एक्सरसाइज करने से डायबिटीज का खतरा कैसे होता है कम? स्टडी में सामने आई वजह

Tags: Cancer, Health, Lifestyle



Source link