Risk of Stroke in children: कोविड-19 ने बच्चों में भी बढ़ाया स्ट्रोक का खतरा, नई रिसर्च में किया आगाह


हाइलाइट्स

नए अध्ययन में दावा किया जा रहा है कि जिन बच्चों को कोविड-19 का इंफेक्शन हुआ था, उनमें स्ट्रोक का खतरा बढ़ रहा है.
हालांकि अभी तक तो बच्चों में स्ट्रोक दुर्लभ ही होता है.

Risk of strok after corona in children: कोरोना इंफेक्शन के बाद वयस्कों में इसके दुष्प्रभाव आज भी देखा जा रहा है. कई वयस्कों को कोरोना की मार दो साल बाद भी झेलनी पड़ रही है. अब एक नए अध्ययन में दावा किया जा रहा है कि जिन बच्चों को कोविड-19 का इंफेक्शन हुआ था, उनमें स्ट्रोक का खतरा बढ़ रहा है. अमेरिका में हुए अध्ययन में यह दावा किया गया है. पेडएट्रिक न्यूरोलॉजी जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक मार्च 2020 से जून 2021 के बीच करीब 16 अस्पतालों में बच्चों के अस्पतालों में भर्ती होने संबंधी डाटा का विश्लेषण किया गया तो पाया गया कि बच्चों में इस्चेंमिक स्ट्रोक का खतरा बढ़ा है.

इसे भी पढ़ें- Winter workout: सर्दी में खुद को फिट रखना चाहते हैं तो ये वर्कआउट करें, एक्सपर्ट ने बताए बॉडी मजबूत करने के टिप्स

इश्चेमिक स्ट्रोक के मामले बढ़े
एनडीटीवी की खबर के मुताबिक ये मामले मई 2021 के बाद ज्यादा आए जब बच्चों में कोविड-19 के मामले बढ़ रहे थे. स्ट्रोक का इलाज करा रहे आधे बच्चे पहले से कोरोना संक्रमित हो चुके थे. दिलचस्प बात यह है कि इन बच्चों को कोरोना जरूर हुआ था लेकिन इनमें लक्षण गंभीर नहीं थे. मामूली इलाज के बाद ही ये ठीक हो गए या बिना इलाज के ही ठीक हो गए. लेकिन इन बच्चों में इश्चेमिक स्ट्रोक के मामले बढ़ने से चिंता बढ़ गई है. अध्ययन में यह पाया गया कि पांच बच्चे जिन्हें कोरोना का टेस्ट भी नहीं किया गया था, उनमें भी स्ट्रोक हुआ. प्रमुख बाल रोग चिकित्सक और यूनिवर्सिटी ऑफ उताह की प्रोफेसर मैरीग्लेन जे विलियोक्स ने बताया कि संभवतः यह हाइपर इम्यून रिस्पॉस के कारण होता है.

बच्चों में स्ट्रोक के कम मामले
मैरीग्लेन जे विलियोक्स ने बताया कि ऑवरऑल बच्चों में स्ट्रोक का खतरा बहुत कम होता है लेकिन कोरोना के बाद इस खतरे को बढ़ा दिया है. अभी तक तो बच्चों में स्ट्रोक दुर्लभ ही होता है. लेकिन नए डेटा से पता चलता है कि इंटरमाउंटेन प्राथमिक बच्चों के अस्पताल में ऐतिहासिक रूप से देखी गई तुलना में स्ट्रोक की कुल संख्या काफी अधिक थी. लेकिन नए डेटा से पता चलता है कि स्ट्रोक की शिकायत को लेकर अस्पताल में पहुंचने वाले बच्चों की संख्या ज्यादा होने लगी. इस अध्ययन से डॉक्टर और मरीज पहले से सतर्क रहेंगे. बच्चों को खास सतर्कता बरतने की जरूरत होगी. बच्चों के माता-पिता को इसे लेकर सतर्क रहना चाहिए.

Tags: Corona, Health, Health tips, Lifestyle



Source link