Russia Ukraine War: यूक्रेन में खेतों से निकल रहे हैं बम, देखें भयावह तस्वीरें


Image Source : PTI
Russia Ukraine War Front line farming

Russia Ukraine War: यूक्रेन में खेतों में कहीं बिना फटे रॉकेट मिले रहे हैं तो कहीं मिट्टी में धंसे हुए रॉकेट नजर आ रहे हैं। श्रमिकों को खर-पतवार हटाने के दौरान कलस्टर बम मिला तो चारा भंडार की छत में बम फटने से हुए छेद नजर आ रहा है। यूक्रेन के पूर्वी हिस्से में खेतीबारी का सारा काम थमा हुआ है। यहां खेतों एवं भवनों को मोर्टारों, रॉकेटों, कलस्टर बमों से बार-बार निशाना बनाया गया। स्थिति ऐसी है कि श्रमिक जमीन में बुआई या गेहूं जैसी फसलों की कटाई करने में असमर्थ हैं।

Russia Ukraine War Front line farming

Image Source : PTI

Russia Ukraine War Front line farming

वेरेस फार्म में खेती का धंधा संभालने वाले विक्टर लुबिनेट्स ने कहा कि फसलों की बुआई-रोपाई एवं कटाई का काम बहाल करना ‘मुश्किल होगा’। उन्होंने कहा कि यदि लड़ाई खत्म हो जाती तो भी पहले खेतों से बिना फटा गोला-बारूद आदि हटाना होगा। वैसे युद्ध समाप्त होने के फिलहाल आसार नहीं हैं। विभिन्न हथियारों की आवाज से आसमान गूंज जाता है और बम एवं गोला-बारूद के फटने से धरती थर्रा जाती है।

Russia Ukraine War Front line farming

Image Source : PTI

Russia Ukraine War Front line farming

लुबिनेट्स ने कहा, ‘‘मुझे इनकी आदत पड़ गई है। पहले दो-चार दिन तो यह बहुत डरावना था लेकिन अब कोई भी व्यक्ति किसी भी चीज का आदी हो ही जाता है।’’ उनके पीछे से धुंए का गुबार दिख रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन हमें काम करना है। यदि हम ये सारी चीजें छोड़ देंगे तो बेआसरा हो जाएंगे, दूसरे किसान भी हताश हो जाएंगे, फिर ऐसे में क्या होगा?’’

Russia Ukraine War Front line farming

Image Source : PTI

Russia Ukraine War Front line farming

कृषि यूक्रेन की अर्थव्यवस्था का अहम हिस्सा है। संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन के मुताबिक युद्ध से पहले कृषि का यूक्रेन के सकल राष्ट्रीय उत्पाद में करीब 20 फीसद हिस्सा तथा निर्यात राजस्व में 40 फीसद हिस्सा था। इस देश को अक्सर यूरोप के लिए अनाज का बड़ा स्रोत कहा जाता है और लाखों लोग अनाज की सस्ती आपूर्ति के लिए यूक्रेन पर आश्रित हैं। लेकिन फरवरी के आखिर में रूस के हमले से यूक्रेन की कृषि को भारी नुकसान पहुंचा है।

Latest World News





Source link