Super Bikes में क्यों लगे होते हैं दो साइलेंसर, जानें क्या है इसके पीछे का राज


हाइलाइट्स

साइलेंसर का काम इंजन से निकलने वाली धुएं को फिल्टर कर बाहर करना होता है.
सामान्य बाइक में एक और सुपर बाइक्स में दो साइलेंसर लगे होते हैं.
कुछ लोग बाइक की आवाज लाउड करने के लिए साइलेंसर बदलते हैं.

नई दिल्ली. बाइक का इस्तेमाल अधिकतर लोग घर से दफ्तर जाने के लिए करते हैं. युवाओं में इसे लेकर काफी क्रेज रहता है. दरअसल शहरों में ट्रैफिक होने के बावजूद भी इसे थोड़ी सी जगह में चला कर जल्दी कहीं भी पहुंच सकते हैं. बाइक को आकर्षक बनाने के लिए और इसे दूसरों से अलग दिखाने के लिए इसमें कई गैजेट्स लगाते हैं. कुछ लोग इसे बदल कर पूरी तरह से मॉडिफाई कर देते हैं जिसे पहचानने में भी मुश्किल होती है. बाइक्स में आमतौर पर एक और दो साइलेंसर देखने को मिलते हैं. 

क्या आपको पता है कि सुपर बाइक में एक ही जगह दो साइलेंसर क्यों होते हैं, आखिर इसके पीछे की क्या वजह है.  

क्या है साइलेंसर का काम 

महंगी बाइक्स में एक की जगह दो साइलेंसर होते हैं. आमतौर पर इसका काम इंजन से निकलने वाले धुएं को फिल्टर कर बाहर करना होता है. सिर्फ इतना ही नहीं इसका दूसरा काम इंजन से निकलने वाली आवाज को दबाना होता है. लेकिन कुछ लोग बाइक को लाउड करने के लिए साइलेंसर को आफ्टर मार्केट चेंज करवा लेते हैं. हालांकि इसे लगवाने पर आपको भारी नुकसान भी हो सकता है. ध्वनि प्रदूषण होने की वजह से ट्रैफिक पुलिस देखते ही चालान कर देती है.

इस वजह से एक की जगह होते हैं दो साइलेंसर

अब सवाल यह उठता है कि क्या केवल एक साइलेंसर से इंजन की आवाज को और इससे निकलने वाली धुएं को फिल्टर कर पाना आसान नहीं होता है. दरअसल अधिक सीसी की बाइक होने के कारण सिर्फ एक एग्जॉस्ट से ऐसा कर पाना मुमकिन नहीं है. इसलिए कंपनियां महंगी और भारी-भरकम बाइक्स में दो साइलेंसर लगाती है. इसके अलावा कुछ लोग बाइक खरीदते समय लोगों के बीच अलग पहचान बनाने के लिए एग्जॉस्ट से निकलने वाली आवाज जरूर चेक करते हैं. 

यह भी पढ़ें : टाटा ने लॉन्च की अपडेटेड Tigor EV, जानें सभी 4 वेरियंट्स की कीमत

अलग से साइलेंसर लगवाने पर हो सकता है भारी नुकसान

आपको बताते चलें कि हमारे देश में किसी भी बाइक और कार को मॉडिफाई कर अलग लुक देना गैर कानूनी है. ऐसा करने पर हजारों रुपये का चालान हो सकता है. सिर्फ इतना ही नहीं ट्रैफिक पुलिस भी बाइक राइडर्स को रोकने से पहले साइलेंसर पर जरूर ध्यान देते है. यह न केवल पर्यावरण के लिए हानिकारक है, बल्कि इससे ध्वनि प्रदूषण भी फैलती है. सड़क पर वाहन चलाने वाले अन्य लोग उन्हें देखकर डिस्ट्रैक्ट होते हैं. इस से दुर्घटना होने की संभावना बनी रहती है.

Tags: Bike news, Bike Review, Car Bike News



Source link