Teenagers Mental Health: ये 7 कारण हो सकते हैं आपके अकेलेपन की वजह, ऐसे करें पहचान


हाइलाइट्स

डिजिटल वर्ल्ड ने दैनिक जीवन को प्रभावित करना शुरू कर दिया है.
पुराने रिश्तों को छोड़ना अकेलेपन की एक बड़ी वजह हो सकता है.

Teenagers Mental Health Tips: हर कोई चाहता है कि उसकी जिंदगी में एक ऐसा दोस्त, भाई-बहन या परिवार का कोई सदस्य हो, जिससे वह अपनी हर खुशी हर समस्या साझा कर सके. क्योंकि, अकेलापन एक ऐसी भावनात्मक स्थिति है, जो ना केवल आपके दुख का कारण हो सकती है, बल्कि अवसाद की स्थिति भी पैदा कर सकती है. इसकी एक वजह अकेले रहना और दोस्तों-परिवार का साथ ना होना भी हो सकता है. द नेशनल सेंपल सर्वे ऑफिस की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में करीब 4.91 मिलियन लोग अकेले रह रहे हैं और अकेलेपन से पीड़ित हैं. इस रिपोर्ट के अनुसार, अकेलापन विशेष रूप से युवा वयस्कों में बहुत अधिक होता है.

हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के अनुसारeघर के अंदर और बाहर दोनों जगह बच्चों और युवाओं की सामाजिकता और उनके दोस्तों के साथ उनकी बातचीत करने की क्षमता ही बताती है कि वह अकेलापन महसूस कर रहे हैं या नहीं.

तो चलिए आपको बताते हैं, अकेलापन महसूस होने के 7 कारणों के बारे में-

– लोग अपने आस-पास के वातावरण के हिसाब से ही दोस्त बनाते हैं. स्कूल-कॉलेज या फिर ऑफिस, अधिकतम लोग इन्हीं माध्यमों के जरिए दोस्त बनाते हैं. वहीं आप बाहर दोस्त बनाते समय इस सोच में पड़ जाते हैं कि आखिर इन माध्यमों के अलावा दोस्त कैसे बनाएं. ये आपके अकेलेपन का कारण बन सकता है.

– डिजिटल वर्ल्ड ने दैनिक जीवन को प्रभावित करना शुरू कर दिया है. आप डिजिटल वर्ल्ड में इतना खो जाते हैं कि आमने-सामने बैठकर दोस्तों-परिवार से बात करना भूलते जा रहे हैं, जो अकेलेपन का बड़ा कारण हो सकता है.
एक्सरसाइज के लिए जिम ज्यादा बेहतर या पार्क? यहां जान लीजिए चौंकाने वाली बातें

– सामाजिक अपेक्षाओं को पूरा करने का दवाब भी आपको अकेलेपन की ओर धकेल सकता है. लोगों से खुद की तुलना भी आपको अपने वास्तविक रूप से अलग-थलग करने लगती है.

– युवा-वयस्क जितना ज्यादा अपनी खोज की ओर बढ़ते हैं, उतना ही उन्हें एहसास होता है कि उनके आस-पास के लोग उनकी वास्तविक जरूरतों को पूरा नहीं कर सकते. लेकिन, पुराने रिश्तों को छोड़ना अकेलेपन की वजह हो सकता है. अपने अकेलेपन को दूर करने के लिए दूसरों पर आश्रित होना भी अकेलेपन की एक वजह हो सकती है.

कई पोषक तत्वों का पावर हाउस ‘अखरोट’, हार्ट और ब्रेन के लिए तो है सुपरफूड

– साइकोलॉजिकल संघर्ष और मानसिक बीमारी भी आपको भावनात्मक रूप से कमजोर कर सकती है और आप लोगों से खुद को अलग-थलग महसूस करने लगते हैं. यह सोचना कि अगर आप अपनी मानसिक बीमारी किसी के साथ शेयर करेंगे तो वह आपको कमजोर समझेगा आप अपनी समस्याओं को छुपाने लगते हैं और खुद के ‘नकली’ वर्जन को दूसरों को दिखाते हैं.

– अलग-अलग वेतन पाने वाले लोगों के साथ उठना-बैठना, उनके साथ मस्ती करना कई बार आपको अपनी आर्थिक स्थिति पर सोचने को मजबूर कर देता है. जिसके चलते आप अपने आस-पास के लोगों से कटने लगते हैं. अपनी आर्थिक स्थिति को अपनाकर आप अकेलेपन के संकट से बच सकते हैं.

– बहुत से लोग ‘दिखावे’ के चलते मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक रूप से थक गए हैं. इसके चलते आप स्वयं के साथ जुड़ने पर ज्यादा विचार नहीं करते. ऑथेंटिसिटी की कमी और थकावट के चलते अकेले रहने की चाह भी आपको अकेलेपन की ओर धकेल सकती है.

Tags: Health, Lifestyle, Mental diseases, Mental health



Source link